Maharaj Ji


दिगम्बर जैन, साधु-संतों के आगमन पर, गोम्मटगिरी ट्रस्ट द्वारा क्षेत्र पर उनके निवास की समुचित वयवस्था संतनिवास-विध्यानंदजी निलय में की जाती है।

पूज्य आर्थिका माताजी के निवास की व्यवस्था संत निवास के 6 कमरों में की जाती है।

त्यागीजन की आहार व्यवस्था, त्यागी सिद्धांत सदन (चौका) में की जाती है। इसका निर्माण सर्वसुविधायुक्त आधुनिक तरीके से किया गया है।

दिगम्बर जैन आचार्य एवं माताजी यहाँ चातुर्मास स्थापना भी करते हैं, एवं श्रावकगण, पूर्ण चातुर्मास यहाँ रहकर सेवादान व धर्मलाभ ले सकते हैं।